क्षिप्रा

अफवाहों की खबर…स्वस्थ है गजराज, पढ़िए श्यामू हाथी के अजीब किस्से…

क्षिप्राखबर @ उज्जैन। भगवान महाकाल की सवारी में सेवा देने वाले हाथी रामू की 7 वर्ष पहले यानी 2 अक्टूबर 2016 को मृत्यु हो गई। अब उसी हाथी के फोटो को श्यामू हाथी बताकर सोशल मीडिया पर तेजी से श्यामू की मृत्य की खबर फैलाई जा रही है। इस खबर की पुष्टि के लिए जब हमने रामू के महावत रहे सुमित गिरी गोस्वामी से बात की तो उन्होंने बताया कि 2016 में रामू का देहांत हो गया था, उसके बाद से यह श्यामू हाथी ही महाकाल की सवारी में सेवाएं दे रहे है। जो श्यामू के निधन की खबर फैलाई जा रही है वह मात्र अफवाह है। श्यामू एकदम स्वस्थ है।

श्यामू प्रतिदिन करते है महाकाल दर्शन, केले देखकर मुँह मे आ जाता पानी…
श्यामू हाथी प्रतिदिन भगवान महाकाल के दर्शन को जाते है। रास्ते मे अगर इन्हें केले दिख जाते है तो इनके मुँह में पानी आ जाता है। प्रतिदिन 50 किलो केले ये खा जाते है। अगले दिन डिमांड फिर केले पर आकर रुकती है। प्रतिदिन केला नही मिलने पर श्यामू हाथी द्वारा भूख हड़ताल कर दी जाती है जो अजीब बात है। भगवान महाकाल की सवारी में करीब 3 लाख श्रद्धालुओं की भीड़, डीजे-बेंड की आवाजों के बाद भी शांत चित्त होकर सवारी में निकलना श्यामू हाथी की खास विशेषता है।

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!