क्षिप्रा

कंपनी के अफसरों से प्रताड़ित युवक क्षिप्रा में कूदा, दो दिन बाद मिला शव

क्षिप्राखबर @ क्षिप्रा। कंपनी के बड़े अफसरों द्वार दिए जा रहे तनाव के चलते गेल कम्पनी के सीनियर मैनेजर क्षिप्रा नदी में कूद गया। सोमवार सुबह निकले युवक जब देर रात तक घर नहीं लौटा तो परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट लसुडिय़ा थाने में दर्ज करवाई। देर रात को युवक की कार क्षिप्रा नदी पुल पर खड़ी मिली थी। कार से मिले सुसाइड नोट में युवक ने कंपनी के अफसरों पर मानसिक रुप से प्रताड़ना देने का आरोप लगाया है। नदी में कूदने की आशंका के चलते एसडीआरएफ की टीम ने मंगलवार दिनभर नदी में रेस्क्यू किया लेकिन कोई सुराग नही मिला। बुधवार सुबह डेढ़ घंटे प्रयास किया उसके बाद शव मिला। परिजनों ने मृतक की शिनाख्त पहने हुए कपड़ो से की।मामला इंदौर के गुलाब बाग कॉलोनी का है। यहां रहने वाले GAIL कंपनी (गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड) के सीनियर मैनेजर विनोद पिता रामप्रसाद शर्मा ने आत्महत्या के इरादे से क्षिप्रा नदी में छलांग लगा दी। वे सोमवार को अपनी कार अपनी कार क्रमांक एमपी 09 डब्लूजी 6003 से सोमवार दोपहर करीब 2 बजे निकले थे। देर रात तक घर नहीं लौटे, जिस पर परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट लसुडिय़ा थाने में दर्ज की थी। देर रात को विनोद की कार क्षिप्रा नदी पुल पर खड़ी मिली थी। परिजनों को आशंका थी कि उन्होंने नदी में कूदकर जान दे दी। सूचना के बाद एसडीआरएफ और अन्य टीमें लापता मैनेजर को खोजने में जुट गई थी। बुधवार सुबह नदी से शव निकालकर जिला चिकित्सालय भेजा गया। जहां शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया। उनकी कार में चार लाइन का सुसाइड नोट मिला। जिसमें कंपनी के अफसरो पर विनोद ने मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाकर उनकी मौत का जिम्मेदार बताया है। विनोद GAIL कंपनी में पदस्थ थे। विनोद से कंपनी के अफसर फर्जी बिल पास कराना चाहते थे, इसलिए वे तनाव में थे। विनोद के परिवार में एक बेटी और एक बेटा है। बेटे की मानसिक हालत ठीक नहीं है।

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!