क्षिप्रा

क्षिप्रा नदी पर बने करोड़ो के घाट हुए वीरान…नदी के गड्डों में हुआ पुण्य स्नान….

क्षिप्राखबर @ क्षिप्रा। बुधवार को अधिकमास की अमावस्या पर श्रद्धालुजन हर्ष एवं उल्लास के साथ मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा नदी में आस्‍था की डुबकी लगाने आये हुए थे। नर्मदा पाइप लाइन के अलावा बारिश में एकत्रित हुए पानी को भी प्रशाषन द्वारा यहां से उज्जैन के लिए छोड़ा जा रहा है। करोड़ो की लागत से क्षिप्रा के दोनों तरफ़ बने घाट भी वीरान पड़े हुए है। इस कारण लोग नदी के बीच गड्डों में एकत्रित पानी मे स्नान करने पर मजबूर है। निरतंर सफाई नही होने के कारण घाटो के आसपास तो दूर-दूर तक सिर्फ गंदगी ही दिखाई दे रही है। घाट पर पानी नही होने से कई लोग क्षिप्रा डेम पर स्नान करने पहुँच रहे है जहां प्रशाषन द्वारा सुरक्षा के कोई इंतजाम नही है।

करोड़ो की लागत से बने घाट वीरान पड़े…..

क्षिप्रा नदी के दोनों तरफ करोड़ो की लागत से स्नान घाटो का निर्माण हुआ है। जो भी घाट बनाए गए है, वे क्षिप्रा नदी की जल धारा के करीब यह सोच कर बनाए गए कि पावन पर्वों और मुहूर्त में डुबकी लगाने वाले श्रद्धालुओं को बिना किसी परेशानी के क्षिप्रा स्नान का पुण्य मिल सके। लेकिन अब नदी पर खतरा साफ तौर पर दिख रहा है। आखिर क्यों सरकार की योजनाएं क्षिप्रा को बचाने में नाकामयाब साबित हो रही हैं। आखिर कब तक मां क्षिप्रा यह सहती रहे कि लोग बस पर्वों में आकर पुण्य कमाएं और उनके संरक्षण की दिशा में कोई काम ही न किए जाएं।

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!