देश-दुनिया

प्रदेश में नहीं थम रहा आदिवासियों पर अत्याचार, अब नाबालिग युवक की गोली मारकर हत्या

क्षिप्राखबर


              मध्य प्रदेश में आदिवासी अत्याचार के मामले थम नहीं रहे हैं।शिवराज शासन में हुए सीधी पेशाब कांड के बाद ग्वालियर, शहडोल, गुना से इस तरह के मामले आए। हालांकि, अब धीरे-धीरे इनकी चर्चा खत्म ही हो रही थी कि अब रायसेन से आदिवासी युवक की गोली मारकर हत्या करने का मामला सामने आया है। मामले को पुलिस ने जांच में लिया है। वहीं वारदात से आक्रोशित आदिवासियों ने थाने के सामने पहुंचकर आरोपियों की गिरफ्तारी मांग की है।

मामला रायसेन जिले के बम्होरी थाने अंतर्गत आने वाले ग्राम पड़रिया का है। मृतक रोहित नाबालिग है और उसके पिता खेत में काम करते हैं। बताया जा रहा है कल रात को आशीष धाकड़, कृष्णपाल यादव, जीतेन्द्र धाकड़ तीनो जंगल गए थे। रात करीबन 9 बजे आये और ऊपर कमरे में चाय पीने रोहित को बुलाया जहां से कुछ देर बाद तेज आवाज आई। जब युवक के पिता वहां पहुंचे तो उनका बच्चा खून से लथपथ जमीन पर पड़ा हुआ था।

रोहित ठाकुर पिता गिरवर ठाकुर ने बताया कि पेट में एयरगन के छर्रे लगने से मौत हो गई। वो पूर्व पीडब्लूडी एसडीओ जसवंत धाकड़ के खेत पर मजदूरी करते हैं। वही मकान में रहते हैं। उन्होंने बताया कि ऊपर के कमरे में खेत पर ट्रैक्टर चालक आशीष धाकड़ एवं भैंस की देखभाल करने वाला कृष्ण पाल यादव ( छोटू ), जीतेन्द्र धाकड़ मेरा बेटा रोहित था। वो अचानक आवाज सुनकर ऊपर कमरे में गए तो रोहित को पेट में खून निकल रहा था।

बच्चे के पिता के अनुसार, वो उसे तत्काल बरेली इलाज हेतु ले गए। लेकिन, रास्ते में मौत हो गई। मृतक के पिता गिरवर ठाकुर का आरोप है कि इन्हीं लोगों ने गोली मारी है एवं अन्य व्यक्तियों से विवाद हुए उनका भी हाथ होना शामिल है। डॉक्टरों के द्वारा मृतक का पीएम किया गया। डॉक्टर अभिषेक ठाकुर ने गोली लगने ओर अत्यधिक खून बह जाने से मौत होना बताया है। सिलवानी एसडीओपी राजेश तिवारी ने बताया कि पुलिस द्वारा मर्ग पंजीबद्ध किया गया है। संदेहियो को पूछताछ हेतु थाना बुलाया गया है। एफएसएल टीम, एसडीओपी सिलवानी राजेश तिवारी, टीआई माया सिंह विवेचना में लगे हुए हैं। विवेचना में उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!