क्षिप्रा

भक्तो के कष्ट हरने नीलकंठेश्वर के रूप में विराजित हुए भगवान शिव

कन्या भोज के साथ शिव मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा सम्पन्न

क्षिप्राखबर @ क्षिप्रा। सिद्धपति हनुमान मंदिर क्षिप्रा नदी तट के समीप शुक्रवार को भगवान महादेव मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की गई। अब भगवान भोलेनाथ नीलकंठेश्वर महादेव बनकर अपने भक्तों के दुःख एवं कष्ट हरेंगे। प्रातः कालीन पूजन अर्चन कर ब्राह्मणों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार एवं यज्ञ द्वारा भगवान नीलकंठेश्वर महादेव को पूरे परिवार सहित विराजमान किया।

जय श्री वीर बालाजी सेवा सत्संग समिति के पंडित मनोज नागर ने बताया कि नगर के समस्त भक्तो के सहयोग से मन्दिर निर्माण और प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन किया गया है। जिसमे शुक्रवार को भगवान नीलकंठेश्वर महादेव, भगवान गणेश जी, माता पार्वती, नन्दी जी एवं नागदेवता को विराजमान किया गया है। प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन प्रातः 8 बजे से राजेश शर्मा एवं जितेंद्र व्यास द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ शुरू हुआ जिनमे भगवान नीलकंठेश्वर महादेव का अभिषेक पूजन किया गया। शिवभक्त पं. राकेश जोशी,पं. महेश शर्मा, दिनेश अग्रवाल, शुभम अग्रवाल ने यजमानो के रूप में जोड़े सहित एवं आकाश अग्रवाल, ओम झँवर, राघव झँवर, मोंटेश दवे, कमलेश सोलंकी, प्रणय माहेश्वरी, संजय शर्मा, अशोक सोलंकी, शुभम जोशी, कैलाश तापड़िया, राजेन्द्र पटेल, आकाश मांगरोले, बंटी पटेल, मनीष पटेल, मयूर वाघेला, उमेश पटेल, नीरज राजा पटेल, मुकेश झँवर, नीरज अग्रवाल ने भी आहुतियां दी। पं. शीलकुमार पाठक ने नीलकंठेश्वर महादेव का चन्दन ओर पुष्पों से मनमोहक श्रृंगार किया। इसके बाद महाआरती हुई। आरती के बाद नवीन जायसवाल, कैलाश अग्रवाल, राहुल शर्मा एवं अजय सोनी द्वारा क्षेत्र की 101 कन्याओ एवं ब्राह्मणों का भोज हुआ। महाप्रसादी की सेवा भक्त मौसम जायसवाल एवं बेंगलुरु से बलराम अग्रवाल द्वारा दी गई।

फ़ोटो : प्राणप्रतिष्ठा के बाद कन्याभोज में प्रसादी ग्रहण करती कन्याएं

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!