इंदौर

सबसे स्वच्छ शहर में ‘नो कार डे’, ऐसे करना होगा सफर

क्षिप्राखबर @ इंदौर। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर देश की स्वच्छता की राजधानी भी कही जाती है। लगातार 6 बार स्वच्छता के मामले में नंबर वन का तमगा हासिल करने वाला इंदौर अब पर्यावरण संरक्षण की दिशा में भी अपने कदम आगे बढ़ा रहा है। इसके साथ ही इंदौर शहर में अब ट्रैफिक मैनेजमेंट को भी पटरी पर लाने की कवायद शुरू हो गई है। इस पहल के तहत इंदौर में पहली बार ऐसा नवाचार किया जा रहा है। 22 सितंबर शुक्रवार को इंदौर की सड़कों पर आपको कार देखने नहीं मिलेंगी। जी हां, इंदौर में 22 सितंबर को ‘नो कार डे’ मनाया जाएगा।

नो कार, सिर्फ पब्लिक ट्रांसपोर्ट…
पर्यावरण संरक्षण और ट्रैफिक व्यवस्थित करने के लिए इंदौर में एक अनूठे अभियान की शुरुआत होने जा रही है। 22 सितंबर को इंदौर में ‘नो कार डे’ मनाया जाएगा। यानि इस दिन कार नहीं चलायी जाएंगी। इंदौर के लोगों से अपील की जा रही है कि वह 22 सितंबर को कार की बजाय पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग करें।

फिर कैसे पहुचेंगे ऑफिस-दुकान…?
अब लोगों के मन में यह सवाल है कि वे अपने रोजमर्रा के कार्यों के लिए ऑफिस या दुकान कैसे पहुंचेंगे…? तो बता दें कि इस दिन लोगों की सुविधा और आने जाने के लिए ई रिक्शा, बस और अन्य पब्लिक ट्रांसपोर्ट चालू रहेंगे। सेहत के प्रति जागरूक लोग साइकिल और पैदल भी चल सकते हैं। इस नई मुहिम को लेकर लोगों में भी काफी उत्साह और उत्सुकता नजर आ रही है। इंदौर में एक बार फिर ऐसा नवाचार किया जा रहा है जो चर्चा का विषय बन गया है और जो पर्यावरण के नजरिये से भी महत्वपूर्ण है।

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!